जानिए द्राक्षासव सिरप के फायदे और नुकसान हिंदी में-

drakshasava syrup uses in hindi

परिचय-

दोस्तों द्राक्षासव सिरप का निर्माण अंगूर की सहायता से किण्वन करके किया जाता है। द्राक्षासव सिरप का प्रयोग मुख्य रूप से शारीरिक कमजोरी, वात, कफ आदि दोषों को ठीक करने के लिए किया जाता है।

द्राक्षासव के रोगों में लाभ पहुंचाता है-

इसके अतिरिक्त द्राक्षासव सिरप का प्रयोग बवासीर, टीबी दमा, अनिद्रा, एनीमिया आदि रोगों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है।

यह एक ऐसा सिर्फ होता है जो पेट की लगभग समस्त समस्याओं को ठीक करने की क्षमता रखता है। यदि आपके भी पेट में कब्ज, एसिडिटी, अपचन, गैस आदि की समस्या हो गई है तो द्राक्षासव का सेवन आपके लिए अत्यंत ही लाभकारी सिद्ध होगा।

इसे भी पढ़ें : जानिए अंजीर(Figs) खाने के अद्भुत फायदे ( health benefits of anjeer/figs in hindi) 

द्राक्षासव का प्रयोग किस उम्र के व्यक्ति के लिए सुरक्षित है-

दोस्तों तरह से एक ऐसी औषधि है जिसको बच्चे, बूढ़े, जवान, महिला, पुरुष सभी इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन सेवन की मात्रा सब के लिए अलग-अलग बताई गई है।

इसे भी पढ़ें : धतूरे के अनसुने व हैरतअंगेज फायदे (health benefits of dhatura in hindi)

द्राक्षासव के सेवन में क्या क्य सावधानियां बरतनी चाहिए-

द्राक्षासव के सेवन में कुछ सावधानियां अवश्य बरतनी चाहिए अन्यथा इसके कुछ दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

द्राक्षासव का सेवन करते समय खट्टी चीजें जैसे अचार हटाई अधिक मिर्च मसाले वाला भोजन आदि के प्रयोग से बचना चाहिए।

द्राक्षासव कहां से खरीदें-

बाजार में द्राक्षासव सिरप मुख्य रूप से दो प्रमुख कंपनियों द्वारा बनाया जा रहा है जिनमें से एक डाबर तथा दूसरी वैद्यनाथ है।

इनमें से आप कोई सा भी सिरप ले सकते हैं, दोनों के ही परिणाम उत्तम प्राप्त हुए हैं। इसके अतिरिक्त पतंजलि अर्थात दिव्य फार्मेसी की ओर से भी द्राक्षासव सिरप का निर्माण किया जाता है। इसे आप किसी भी मेडिकल स्टोर से बिना डॉक्टर के पर्चे के भी खरीद सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : भांग खाने के अद्भुत फायदे (health benefit of bhang/ intoxicating hemp)

द्राक्षासव के निर्माण में किन औषधियों का प्रयोग किया जाता है-

मुख्य रूप से द्राक्षासव सिरप जायफल, पिपली, बड़ी इलायची, लौंग और काली मिर्च जैसी औषधियां मिलाकर निर्मित किया जाता है। यह समस्त औषधियां हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं और साथ ही साथ पेट की समस्त विकारों का भी नाश करती हैं।

 द्राक्षासव की सुरक्षित मात्रा क्या है-

चिकित्सक के अनुसार एक वयस्क मनुष्य को 30 से 40 ml की मात्रा में  द्राक्षासव जल में मिलाकर लेना चाहिए। इसे दिन में दो बार लिया जाना चाहिए और कम से कम 1 माह तक सेवन अवश्य करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें : हल्दी वाला दूध पीने के हैरतअंगेज फायदे (health benefits of turmeric milk)

भूख खुलने और अच्छी नींद के लिए भी करें द्राक्षासव का प्रयोग-

जिन व्यक्तियों को रात्रि में अच्छी नींद नहीं आती है यदि मैं द्राक्षासव देती हूं तो उनका मस्तिष्क शांत होता है और उन्हें अच्छी नींद आने लगती है। साथ ही साथ द्राक्षासव सेवन भूख भी बढ़ाता है।

द्राक्षासव सिरप का मूल्य कितना होता है-

बाजार में द्राक्षासव सिरप की 450ml की बोतल डेढ़ सौ से 200 रूपए के बीच में मिल जाती है। यह एक OTC दवा है जो डॉक्टर के पर्चे के बिना ली जा सकती है।

इसे भी पढ़ें : 300 बीमारियों का काल है सहजन (moringa health benefits in hindi)

उपरोक्त दी गई समस्त जानकारी केवल सूचना के उद्देश्य से है। चिकित्सा के तौर पर इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य सलाह ले लें। धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here