जानिए अरारोट के फायदे और नुकसान (Arrowroot Benefits and Side Effects in Hindi)

अरारोट पाउडर के फायदे

अरारोट का परिचय (introducttion to arrowroot in hindi)

अरारोट के पौधे की लंबाई लगभग 90 से 180 सेंटीमीटर तक हो सकती है। अरारोट के पौधों में सफेद रंग के फूल निकलते हैं। यह पौधा कई वर्षों तक जीवित रहता है।

 

यह पौधा सबसे अधिक दक्षिणी अमेरिका के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाया जाता है। फिलीपींस और दक्षिणी अमेरिका व कैरेबियाई द्वीपों में अरारोट बड़े पैमाने पर खेती की जाती है। आइए जानते हैं अरारोट के औषधीय गुणों के बारे में-
 
benefits of arrowroot in anaemia in hindi

एनीमिया में अरारोट के फायदे (benefits of arrowroot in anaemia in hindi)

दोस्तों एक साधारण सा दिखने वाला अरारोट अद्भुत स्वाद के अलावा अनेक पोषक तत्व विटामिंस व खनिजों का अच्छा स्रोत माना गया है। अरारोट में मुख्य रूप से तांबा और लोहा बाहुल्य में पाया जाता है यही कारण है कि यह एनीमिया जैसे रोगों को रोकने में बहुत सक्षम होता है। इसके अलावा शरीर में थकान कमजोरी जैसे अन्य विकारों को दूर करके ऊर्जा का संचार करता है।
 

सिर दर्द का अरारोट से इलाज (benefits of arrowroot in headache in hindi)

दोस्तों सिर दर्द को दूर करने के लिए भी अरारोट का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रयोग में 1 से 2 ग्राम अरारोट के चोर को लेकर उसमें 200 मिली जल मिलाकर पकाएं। पुणे इसमें एक पाव दूध और 50 ग्राम मिश्री डालकर पकाएं। जब केवल दूध की मात्रा बच्चे और दूध गुनगुना रह जाए तो इसका सेवन करें इससे सर दर्द में जल्द आराम मिलता है।
 

मेटाबॉलिज्म को सुधारने के लिए अरारोट का प्रयोग (use of arrowroot to improve metabolism in hindi)

दोस्तों अरारोट में विटामिन बी की उच्च मात्रा पाई जाती है इसलिए यह हमारे शरीर में महत्वपूर्ण एंजाइमों का निर्माण करता है और हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म को सुधारता है।
 

पेचिश में अरारोट के फायदे (benefits of arrowroot in latch)

दोस्तों अरारोट का प्रयोग पेचिश रोग को दूर करने के लिए भी किया जाता है। एक चम्मच आरा रोड के चूर्ण को 500 मिलीलीटर जल के साथ पकाने के बाद 250 मिली लीटर दूध और थोड़ी शक्कर डाल कर पुनः पकाएं। जब जल आधा रह जाए तो उसे आग से उतार कर ठंडा कर लें। उसके बाद उसे 125 मिली जायफल चूर्ण के साथ रोगी को सेवन के लिए दें। इस विधि से अरारोट का प्रयोग करने से पेचिश रोग में जल्द लाभ मिलता है।
 

घाव के इलाज में अरारोट का प्रयोग (arrowroot benefits in wounds in hindi)

दोस्तों घाव होने पर भी अरारोट बहुत लाभ पहुंचाता है। अरारोट का प्रयोग कई तरह के घाव ठीक करता है। अरारोट को भाव पर लेप के रूप में लगाया जाता है। अरारोट का लेप करने से घाव से आने वाली दुर्गंध भी समाप्त हो जाती है।
 
arrarot ke fayde in heart disease

अरारोट बनाए हृदय को स्वस्थ (arrowroot makes heart healthy)

दोस्तों अरारोट में पोटैसियम की प्रचुर मात्रा  पाई जाती है, यही कारण है कि अरारोट हर तरह की ह्रदय की समस्या को दूर करता है। अरारोट ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने के साथ-साथ हर्ट-अटैक से भी बचाता है।
 

वजन कम करने के लिए अरारोट का प्रयोग (uses of arrowroot for weight loss in hindi)

दोस्तों अरारोट का प्रयोग वजन कम करने के लिए भी किया जाता है। आरा रोड से प्राप्त होने वाली कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है।
 

अरारोट बढ़ाए रोग प्रतिरोधक क्षमता (arrowroot improves immunity in hindi)

अरारोट का पाउडर शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत बनाता है। यह शरीर के रोगों से लड़ने वाले सेल्स को बढ़ाता है।
 

अरारोट के कुछ नुकसान (Some side-effects-of-arrowroot)

दोस्तों वैसे तो अरारोट के ढेरों फायदे हैं लेकिन फिर भी इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक करना चाहिए। छोटे बच्चों, गर्भवती महिलाओं और किडनी व लीवर आदि की परेशानियों से जूझ रहे लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here