चारकोल फेस मास्क लगाने के अद्भुत फायदे। कील मुहांसों दाग धब्बों को हमेशा के लिए कहें बाय-बाय।

charcoal face mask ke fayde

एक्टिव चारकोल का इतिहास :

दोस्तों जैसा कि बहुत कम लोग जानते हैं कि एक्टिव चारकोल आजकल ब्यूटीवर्ल्ड में बहुत लोकप्रिय हो रहा है
परंतु आज से लगभग 23000 वर्ष पहले मिस्र सभ्यता के लोगों को खासकर महिलाओं को इसका ज्ञान था। यहाँ  के लोग चारकोल का प्रयोग सुंदरता बढ़ाने के लिए बहुतायत से करते थे। 
बाद में इसका प्रयोग गंदे पानी को साफ करने में व बारूद बनाने में किया जाने लगा।
 
दोस्तों वर्तमान समय में आपको मार्केट में एक्टिवेटेड चारकोल युक्त फैसियल क्लींजर, शैंपू, साबुन और स्क्रब आदि आसानी से मिल जाएंगे।
 

आखिर क्यों चारकोल युक्त प्रोडक्ट्स ब्यूटी एक्सपर्ट की पहली पसंद बना हुआ है?

दोस्तों एक्टिवेटेड चारकोल प्रदूषण का पक्का दुश्मन माना जाता है। यह त्वचा से हर प्रकार के बैक्टीरिया और धूल मिट्टी के कड़ व गंदगी को आसानी से बाहर निकाल देता है।
अगर आप भी अपनी त्वचा की रंगत को निखारना चाहते हैं और कील मुहांसों से सदा के लिए छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप एक्सपर्ट की सलाह से एक्टिवेटेड चारकोल युक्त फेस पैक का प्रयोग कर सकते हैं।

जानिए आखिर क्या है ? एक्टिवेटेड चारकोल :

दोस्तों एक्टिवेटेड चारकोल वास्तव में एक्टीवेटेड कार्बन होता है यह काले रंग का गंधहीन और स्वादहीन बारीक पाउडर होता है। यह लकड़ी को वायु के अनुपस्थिति में जलाकर बनाया जाता है।
 

एक्टिवेटेड चारकोल के फायदे :

दोस्तों चेहरे पर होने वाले दाग धब्बे व पिंपल्स आदि प्रदूषण के विषैले कड़ प्रवेश करने से उत्पन्न होते हैं। चारकोल में प्रदूषण को अवशोषित करने की वह बैक्टीरिया आदि को समाप्त करने की गजब की क्षमता पाई जाती है। यही कारण है कि एक्टिवेटेड चारकोल का प्रयोग महंगे फेस वॉश व फेस मास्क में किया जाता है।
 
पिंपल्स कील मुहांसों के उत्पन्न होने का सबसे बड़ा कारण त्वचा के रोम छिद्रों में डेड स्किन अर्थात मृत त्वचा कोशिकाओं प्राकृतिक तेल या सीबम और बैक्टीरिया का जमा होना होता है। मुहांसों के बैक्टीरिया के कारण त्वचा में जलन खुजली, लालिमा और सूजन जैसी समस्याएं जन्म लेने लगती है। एक्टिवेटेड चारकोल इन सभी समस्याओं को समाप्त करने की क्षमता रखता है
 

कैसे करें चारकोल फेस मास्क का प्रयोग :

  1. दोस्तों चारकोल फेस मास्क का प्रयोग बहुत ही सावधानी पूर्वक करना चाहिए,
  2. मास्को को लगाने से पहले चेहरे को अच्छी तरह से पानी से धोएं,
  3. अब मास्क को अंगुलिया किसी मुलायम ब्रश की सहायता से चेहरे पर एक समान रूप से फैलाएं,
  4. चेहरे के माथे से शुरु करते हुए गालो नाक ठोडी और गर्दन पर लगाएं,
  5. मास्क लगाने के बाद उसे पैक पर बताए गए समय के अनुसार सूखने दें,
  6. मास्क के सूखने के बाद उसे गुनगुने पानी से धो लें,
  7. यदि पील ऑफ मास्क है तो उसे सावधानी पूर्वक नीचे से ऊपर की ओर निकाले,
  8. पानी से धोने के बाद किसी मुलायम तौलिए से थपथपाते हुए चेहरे को सुखाएं,
  9. अंत में चेहरे पर एक अच्छा सा मॉइश्चराइजर लगाना बिल्कुल ना भूले।

सावधानियां :

चारकोल मास्क लगाने से पहले हमें निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना आवश्यक होता है-

  • मास्क को चेहरे पर लगाने से पहले सर्वप्रथम इसका पैच टेस्ट अवश्य कर लें।
  • मास्क आंखों के आसपास बिल्कुल न लगाएं।
  • अपनी त्वचा के अनुरूप और अच्छी गुणवत्ता वाले चारकोल मास्क का ही चुनाव करें।
  • त्वचा पर यदि कोई एलर्जी या इन्फेक्शन हो तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य ले लें।
  • पहली बार चारकोल मास्क लगवाने के लिए किसी ब्यूटी एक्सपर्ट की सहायता ले लें तो ज्यादा अच्छा होगा।

अधिक जानकारी के लिए यह विडियो देखें >>>

 
Disclaimer: इस लेख में दी गयी समस्त जानकारी केवल सूचना के उद्देश्य से है , हम किसी भी तथ्य के पूर्णतः सत्य या मिथ्या होने का दावा नहीं करते दी गयी जानकारी का स्त्रोत विभिन्न पुस्तकेंस्वास्थ्य-सलाहकार व कुछ व्यक्तियों के अनुभव हैं, दर्शक कृपया स्व-विवेक से काम लें , धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here